Thursday, March 25, 2010

Vedanta Mining Violates Rights of Indigenous People in Orissa,


SVAW - UN Agency (en)
Amnesty International logo

Vedanta Mining Violates Rights of Indigenous People in Orissa, India.



Plans by Vedanta Resources to mine bauxite in the Niyamgiri Hills of Orissa threaten the very existence of the Donghria Kondh – an indigenous community that has lived on and around the hills for centuries.

The proposed mine could have grave repercussions for their human rights to water, food, health, work and other rights as an indigenous community in respect of their traditional lands.


Vedanta’s Record

At the foot of the Niyamgiri Hills, in Lanjigarh, Vedanta Resources has already started running an alumina refinery leading to significant air and water pollution. This pollution is threatening the health and well-being of the indigenous community. Although the Orissa State Pollution Control Board (OSPCB) has reported serious concerns about toxic air and water contamination, this information has never been shared with local people. Despite the existing problems and widespread community concerns, there is now an attempt to expand the refinery’s capacity six-fold.

Take Action to Protect Indigenous People in Orissa, India.

Vedanta Resources and its subsidiaries – responsible for the refinery and the proposed mine – have failed to abide by internationally accepted standards in relation to the impact of business on human rights. The Governments of Orissa and India have also failed to protect the human rights of this community.

You can do something to protect this indigenous community by signing the petition to the Government of India.

Take action Now

If you are in India please pick up your mobile phone and SMS ‘AMNESTY STOPVEDANTA’ to 56677. Your petition will be sent to the Indian government.

Thanks for your continued support and commitment to human rights.

Alaphia, Buddha, Jeremy and Jennifer
Online Communities Team


Amnesty International

International Secretariat 1 Easton Street
London, xLON WC1X 0DW
United Kingdom


वेदान्ता खनन उड़ीसा के लोगो के अधिकारों का हनन कर रहा है


नमस्कार,

वेदान्ता रिसोरसिस के नियमगिरि हिल्स उड़ीसा में बॉक्साइट खान बनाने की योजना एक समुदाय- ड़ोंघ्रिया कोंध, जो की वहाँ सदियों से रह रही है, के अस्तित्व के लिए बहुत बड़ा खतरा है।

प्रस्तावित खान इन के पानी, खान पान, स्वास्थ्य,रोज़गार से जुड़े मानवाधिकारों के अलावा एक समुदाय होने के नाते इनके पारम्परिक भूमि से सम्बंधित अधिकारों पर भी गंभीर असर डाल सकती हैं।

Stop mining and refinery projects from devastating communities in  India

वेदान्ता का अभिलेख

लंजिगढ़ में नियमगिरि पहाड़ो के चरण पर वेदान्ता ने पहले से अल्युमिना रिफाइनरी शुरू कर दी है जिसके फलस्वरूप व्यापक वायु और जल प्रदूषण हो रहा है।यह प्रदूषण इस समुदाय के स्वास्थ्य और भलाई के लिए बहुत बड़ा खतरा बन रहा है।हालाँकि उड़ीसा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने विषाक्त जल और वायु के बारे में गंभीर चिंता व्यक्त की है पर इस जानकारी को स्थानीय लोगो के साथ बाँटा नहीं गय ा है।मौजूदा समस्याओं और व्यापक समुदाय चिंता के बावजूद अब रिफाइनरी की क्षमता को छह गुना बढाने का प्रयास किया जा रहा है।

लोगो को बचाने के लिए कार्यवाही कीजिये

रिफाइनरी और प्रस्तावित खान के लिए ज़िम्मेदार वेदान्ता रिसोर्सिस और उसके सहायक, अंतर्राष्ट्रीय स्वीकृत मानको, जो की व्यापार का मानवाधिकारों पर प्रभाव से जुड़े हुए है, का पालन करने में विफल रहे है।उड़ीसा और भारत सरकार भी इस समुदाय के मानवाधिकारों को बचाने में नाकामयाब रहे है।

आप भारत सरकार को संबोधित अर्जी (पेटीशन) को साईंन करके इस समुदाय के अधिकारों को बचाने के लिए कुछ कर सकते है।

Take action Now

अगर आप भारत में है तो अपना मोबाईल फोन उठाइए और ' ‘56677’ पर SMS कीजिये 'AMNESTY STOPVEDANTA'.

आपके अविच्छिन्नित समर्थन और मानवाधिकारों के प्रति वचनबद्धता के लिए धन्यवाद।

अलाफिया, बुद्धा, जेनिफर
जेनिफर बिलेक सुलिवन

No comments: